New Izzat shayari in hindi 2022

0
Kuchh log khud  auorat  ki
  izzat  uchhal kr sb jgh kahte firte hai
Ki auorat  mhabhart  krwati  hai


कुछ लोग खुद औरत की.......
 इज़्ज़त उछालकर सब जगह कहते फिरते
 है की औरत महाभारत करवाती है .....,,




Izzat  itni   mahgi cheej  hai
Iski  ummid  ghatiya  logo  se
 nhi  ki ja skati


इज़्ज़त इतनी महंगी चीज़ है 
इसकी उम्मीद घटिया लोगों से 
.........नहीं की सकती है....... 




Jis trh kutto ko ghi hajm nhi hoti 
Thik usi trh besarm  logo  ko  izzat   hajm nhi hoti 

जिस तरह कुत्तों को घी हजम नहीं होती 
....ठीक उसी तरह बेशरम लोगों को...
...........इज़्ज़त हजम नहीं होती ...........




Auorat ko ghar ki izzat kha jata  hai
Fir kyo log izzat ki kadar krna bhul jata hai


।। औरत  को ।।
 घर की इज्जत कहा जाता है ,,
फिर क्यूं लोग इज्ज़त की ,,
कदर करना भूल जाता है ।।



Post a Comment

0Comments

Hello friends.
Aesi chilchasp shayari padhne ke liye hme follow kre Or post kaisi lagi comment me hme jarur bataye ❤💙💜💖💗💘❤

Post a Comment (0)